बुधवार, 7 अगस्त 2019

सुनिए_सरकार-_जरुरी_था_धारा_370_का_हटाया_जाना

सुनिए_सरकार-_जरुरी_था_धारा_370_का_हटाया_जाना


bjको हटाए जाने को लेकर मेरी अपनी राय क्या है दोस्त कल मैने इसी को लेकर एक पेशकश की थी दूसरे चैनल के लिए न्यूज़ के के लिए इस से मैने इस मुददे को लेकर जो खां इतना कम हो रहा है जिससे उसे बयां किया था आज मैं आजकल क्रीसेंट को लेकर अपनी राय आपके सामने रखने वाला है मैं चाहता हूँ दोस्तों किस तरह से केंद्र सरकार ने इस फैसले को लागू किया है जीस तरह से हटाने की कोशीश की जा रही थी इसमें आम कश्मीरी की कोई राय लेंगे मैं जानता हूँ कि पूर्व मुख्य मंत्री ओह महबूबा मुफ़्ती और उमर अब्दुल्ला को रेस्ट किया गया है जिससे कई लोग लोकतांत्रिक मान रहे हैं चाहता हूँ कि इसके अलावा केंद्र सरकार के पास विकल्प क्या थे जी हाँ मैं केंद्र सरकार के इस फैसले का समर्थन करता हूँ और आज अपनी इस रिसर्च के आधार ख़बर में आपको बताने जा रहा हूँ कि सबसे पहले आपको गौर करना पड़ेगा स्टॉक्स पर नाम शेख अब्दुल्ला जी हाँ कश्मीर के पहले सत्र में जम्मू कश्मीर के पहले चीज़ में नस्या शेख अब्दुल्ला को कश्मीर के इतिहास का काला अध्याय और चप्पल से बचा पूछी गई तो उन्होंने कहा इसलिए क्योंकि कांग्रेस में कश्मीर की स्वायत्तता पर उसकी टोपी पर अंकुश लगाएं या मैं आपको बताना चाहता हूँ कि दिक्कत ये नहीं थी कि कश्मीर की ओर टोनी पर रोक लगायी गयी दिक्कत यहाँ पर ये थी कि वहाँ की उम्मीदों को आ गया वहा के लोग तांत्रिक उम्मीदों को किस तरह से कुचला गया और सिलसिलेवार तरीके से एक एक मुद्रा में आपके सामने पेश करने जा रहा हूँ सबसे पहले दोस्तों में आपको बताना चाहूंगा मुद्दा नंबर एक लाख फ्रांस रेसिटेशन सेंस इंडिपेंडेंस हुई नहीं भूल सकता है कि उन्नीस के चुनाव में जीस तरह की कांग्रेस और नेशनल कॉन्फ्रेंस ने कारवाई थी उसी का नतीजा है दूसरों की सलाह दी जैसे आतंकवादी पैदा हुआ उसी की वजह से आतंक बढ़ा और उसी के बाद कश्मीरी पंडितों को लगातार टारगेट किया जिसका नतीजा यह हुआ तो उसको की उन्हें घाटी से पलायन करना पड़ा

1 टिप्पणी: